Disable Copy Content

शुक्रवार, 14 फ़रवरी 2014

हर प्यार को सलाम


ज़िक्र करना एक का क्या, लूँ सभी के नाम
या भेज दूँ खुशबू भरे, हर प्यार को सलाम!

~ अशोक सिंह
   Feb. 2014, New York

1 टिप्पणी:

karthik sekar ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.