Disable Copy Content

शनिवार, 12 जनवरी 2008

सुमति चैतन्य

ये कुछ पंक्तियां चिन्मयानंद आश्रम की प्रखर वक्ता ब्रम्ह्चा. सुमति चैतन्य की वाशिंटन डी. सी. की यात्रा के दौरान, उनके सम्मान में लिखी गयी थीं ।

ज्ञानशिखा चिर-ज्योति प्रज्जवलित,
ऊर्ध्व सारिणी, विश्व तारिणी।
सुमति, 'प्रचंड', प्रवाहित धारा,
दुर्गति नाशिनि, ब्रम्हचारिणी।

दें हमको आशीष पुण्यमयि,
बने ह्रुदय सद्सार-ग्राहणी।
देवी नमन तुम्हे है शत शत,
कथा उपनिषद, तेज धारिणी।

~ अशोक सिंह 
   न्यू यॉर्क 

2 टिप्‍पणियां:

रिपुदमन पचौरी ने कहा…

अशोक जी कहाँ हैं ... कोई नं. नहीं मिल रहा आपका.... !

CocoPuffs ने कहा…

if i gave you a song, could you write some sweet lyrics